Monday, November 16, 2015

      
तेरा मेरा शिशेका घर 
फिर क्यू तेरे हाथ मी पत्थर? 
तुभी सौच ,मै भी सोचू ।।१।।
लेहरे आती -जाती है  किनारेपर 
फिर कयू नाम लिखा रेतपर ?
तुभी सौच ,मै भी सोचू ।।२।।
राम भी मेरा रहीम भी मेरा 
फिर क्या तेरा ,फिर क्या मेरा ?
तुभी सौच ,मै भी सोचू ।।३।।